Bollywood

  • चश्मे बद्दूर

    अस्सी का दशक उस दौर की याद दिलाता है, जब फैमिली क्लास ने सिनेमाघरों से दूरी बनाई . इसी दौर में शुरू हुआ सिंगल स्क्रीन पर ताले लगने का दौर अभी भी थमा नहीं है . ट्रेड ऐनालिस्ट इस दौर को ग्लैमर इंडस्ट्री का बुरा वक्त मानते हैं . पिछले हफ्ते इसी दशक में रिलीज़ हुई हिम्मतवाला के रीमेक को दर्शकों और क्रिटिक्स ने धो दिया . Continue reading